शिकायत बोल

शिकायत बोल
ऐसा कौन होगा जिसे किसी से कभी कोई शिकायत न हो। शिकायत या शिकायतें होना सामान्य और स्वाभाविक बात है जो हमारी दिनचर्या का हिस्सा है। हम कहीं जाएं या कोई काम करें अपनों से या गैरों से कोई न कोई शिकायत हो ही जाती है-छोटी या बड़ी, सहनीय या असहनीय। अपनों से, गैरों से या फ़िर खरीदे गये उत्पादों, कम्पनियों, विभिन्न सार्वजनिक या निजी क्षेत्र की सेवाओं, लोगों के व्यवहार-आदतों, सरकार-प्रशासन से कोई शिकायत हो तो उसे/उन्हें इस मंच शिकायत बोल पर रखिए। शिकायत अवश्य कीजिए, चुप मत बैठिए। आपको किसी भी प्रकार की किसी से कोई शिकायत हो तोर उसे आप औरों के सामने शिकायत बोल में रखिए। इसका कम या अधिक, असर अवश्य पड़ता है। लोगों को जागरूक और सावधान होने में सहायता मिलती है। विभिन्न मामलों में सुधार की आशा भी रहती है। अपनी बात संक्षेप में संयत और सरल बोलचाल की भाषा में हिन्दी यूनीकोड, हिन्दी (कृतिदेव फ़ोन्ट) या रोमन में लिखकर भेजिए। आवश्यक हो तो सम्बधित फ़ोटो, चित्र या दस्तावेज जेपीजी फ़ार्मेट में साथ ही भेजिए।
इस शिकायत बोल मंच के बारे में अपने इष्ट-मित्रों को भी बताएं।
ई-मेल: शिकायत बोल
shikayatbol@gmail.com
फ़ेसबुक पर

सोमवार, 30 अप्रैल 2012

रचनाकार

सेवाभाव-बेभाव
फ़ेसबुक, ऑर्कुट, गूगल प्लस, बज़ जैसी कई सोशल नेटवर्किंग साइटों के अलावा मेरे 
कार्टून कई फ़ोकटिया वेबसाइटों पर भी मेरे कार्टून नियमित छप रहे हैं!
कार्टून: © T.C. Chander

‘........’ एक अव्यावसायिक पत्रिका (या ई-पत्रिका) है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित अनुमति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। किसी भी रचनाकार को हमारे द्वारा किसी प्रकार का मेहनताना नहीं दिया जाता है। हमारा ध्येय है कला, साहित्य, संस्कृति वगैरह की सेवा करने में फ़ालतू के खर्चों यानी फ़िजूलखर्ची से बचकर चला जाए।
आपने प्राय: कई जगह ऐसा ही पढ़ा होगा...इस विवरण में विवरण के पीछे के मतलब को भी स्पष्ट किया गया है।

एटीएम कोड

सावधान  
(२४ घण्टे आपकी सेवा में, दान स्वीकार केन्द्र. खुले पैसे उपलब्ध)


यदि कोई एटीएम कार्ड समेत आपका अपहरण कर ले तो विरोध मत कीजिए। अपहर्ता की इच्छानुसार अपना एटीएम कार्ड मशीन में कार्ड डालिए। अपना कोड उलटे क्रम यानी रिवर्स में डायल कीजिए। जैसे यदि आपका कोड 1234 है तो उसकी जगह 4321 डायल कीजिए। ऐसा करने पर एटीएम खतरे को भाँपकर पैसा तो निकालेगा लेकिन आधा एटीएम कार्ड मशीन में फँसा रह जायेगा। इसी बीच एटीएम मशीन खतरे को भाँपकर बैंक और नजदीकी पुलिस स्टेशन को सूचित कर देगी और साथ ही एटीएमका दरवाजा स्वत: बन्द यानी ऑटो लॉक हो जाएगा। इस तरह बगैर अपहर्ता को भनक लगे आप सुरक्षित बच जाएंगे। एटीएम में पहले से ही ऐसा सिक्योरिटी मैकेनिज्म मौज़ूद है जिसकी जानकारी बहुत कम लोगों को है। 
प्रकाश अस्थाना/फ़ेसबुक            कार्टून: © T.C. Chander

शनिवार, 28 अप्रैल 2012

गधा

‘ग’ से गधा

गुरुवार, 12 अप्रैल 2012

कृपा
बाबा, किसी तरह २००० रुपये की जुगाड़ करके आपकी कृपा पाने का टिकट लेकर आया हूं। बताएं मैं अरबपति कैसे बनूंगा? बाबा से भक्त कल्लू ने पूछा।
अरे इस बदमाश पर जूतों की कृपा बरसाओ और लात मारकर बाहर निकाल दो...साला हमारी होड़ करने के लिए हमसे ही आइडिया मांग रहा है! बाबा ने चिल्लाकर कहा।
‘निर्मल बाबा उवाच’ नामक काल्पनिक पुस्तक से साभार
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.