शिकायत बोल

शिकायत बोल
ऐसा कौन होगा जिसे किसी से कभी कोई शिकायत न हो। शिकायत या शिकायतें होना सामान्य और स्वाभाविक बात है जो हमारी दिनचर्या का हिस्सा है। हम कहीं जाएं या कोई काम करें अपनों से या गैरों से कोई न कोई शिकायत हो ही जाती है-छोटी या बड़ी, सहनीय या असहनीय। अपनों से, गैरों से या फ़िर खरीदे गये उत्पादों, कम्पनियों, विभिन्न सार्वजनिक या निजी क्षेत्र की सेवाओं, लोगों के व्यवहार-आदतों, सरकार-प्रशासन से कोई शिकायत हो तो उसे/उन्हें इस मंच शिकायत बोल पर रखिए। शिकायत अवश्य कीजिए, चुप मत बैठिए। आपको किसी भी प्रकार की किसी से कोई शिकायत हो तोर उसे आप औरों के सामने शिकायत बोल में रखिए। इसका कम या अधिक, असर अवश्य पड़ता है। लोगों को जागरूक और सावधान होने में सहायता मिलती है। विभिन्न मामलों में सुधार की आशा भी रहती है। अपनी बात संक्षेप में संयत और सरल बोलचाल की भाषा में हिन्दी यूनीकोड, हिन्दी (कृतिदेव फ़ोन्ट) या रोमन में लिखकर भेजिए। आवश्यक हो तो सम्बधित फ़ोटो, चित्र या दस्तावेज जेपीजी फ़ार्मेट में साथ ही भेजिए।
इस शिकायत बोल मंच के बारे में अपने इष्ट-मित्रों को भी बताएं।
ई-मेल: शिकायत बोल
shikayatbol@gmail.com
फ़ेसबुक पर

गुरुवार, 30 जून 2011

तेल भारत

तेल पर सरकार का जनता को मूर्ख बनाने का असली खेल
भारत में जो सरकारी तेल कम्पनिया हैं उनमें बहुत ज्यादा भ्रष्टाचार है। भारत पेट्रोलियम, इंडियन ऑयल, हिंदुस्तान पेट्रोलियम तथा ओएनजीसी में पूरे विश्व में प्रति लीटर मार्जिन, प्रति कर्मचारी खर्च (सेलेरी) का अनुपात बहुत जयादा है। हर तेल कंपनी का 58 % केवल कर्मचारियों पर ही खर्च होता है।
ओएनजीसी के पास 8 जेट जहाज तथा 26 हेलिकॉप्टर है जिनका उपयोग मंत्री और नेता ही करते है। एक आर टी आई से पता चला की जब आर. पी. एन. सिंह पेट्रोलियम राज्य मंत्री थे तो उन्होंने सिर्फ 1 साल में ही 37 बार ओएनजीसी के प्लेन से दिल्ली से अपने क्षेत्र पडरौना की यात्रा की थी।
हर बहस में कांग्रेस के नेता तेल की कीमतों में बढ़ौतरी को जायज ठहराते हैं और सरकार को हो रहे नुकसान का रोना रोते हैं। सरकार और कांग्रेस कब तक जनता को मूर्ख समझती रहेंगी? आज कच्चे तेल की कीमत है 90 डॉलर प्रति बैरेल यानि 25.50 रुपये प्रति लीटर। एक लीटर कच्चे तेल को रिफाइन करने का खर्च है 20 पैसे। यानी सरकार को एक लीटर पेट्रोल की लागत आयी रुपये- 25.70। अब असली खेल यहाँ से शुरू होता है।
केंद्र सरकार
• 13 % उत्पाद कर (एक्साइज)- 30.06 + 13% = 34, पोर्ट टैक्स (तेल के टेंकर से वसूला जाता है)
• 1500 डॉलर छोटे टेंकर से और 25000 डॉलर बड़े टेंकर से एक लीटर पर करीब 3% होगा- 34+3% = 35.02
• 8 % रिफाइनरी मार्जिन टैक्स- 35.02 +8% = 37.82
राज्य सरकार
• 8% से 12.5 % तक वैट- 37.82+ 12.5% = 42.54
रुपये
• 4 % से 8 % तक एजूकेशनल सेस- 42.54+8% = 46
यानी सरकार एक लीटर पेट्रोल से 20 रुपये 25 पैसे पहले ही कमा लेती है। आज पेट्रोल लगभग 68 रुपये तक में बिक रहा है। असल में भारत में जो सरकारी तेल कम्पनिया हैं उनमे बहुत ज्यादा भ्रष्टाचार है। भारत पेट्रोलियम, इंडियन ऑयल , हिंदुस्तान पेट्रोलियम तथा ओएनजीसी में पूरे विश्व में प्रति लीटर मार्जिन, प्रति कर्मचारी खर्च (सेलेरी) का अनुपात बहुत जयादा है। हर तेल कंपनी का 58 % केवल कर्मचारियों पर ही खर्च होता है।
ओएनजीसी के पास 8 जेट जहाज तथा 26 हेलिकॉप्टर है जिनका उपयोग मंत्री और नेता ही करते है। एक आर टी आई से पता चला की जब आर. पी. एन. सिंह पेट्रोलियम राज्य मंत्री थे तो उन्होंने सिर्फ 1 साल में ही 37 बार ओएनजीसी के प्लेन से दिल्ली से अपने क्षेत्र पडरौना की यात्रा की थी।
आखिर कांग्रेस तेल के पीछे का असली खेल जनता को क्यों नहीं बताती। तेल की कीमतों पर कांग्रेस और सरकार कब तक जनता को मूर्ख बनाते रहेंगे?
• अनिल गुप्ता
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.